About the authors

अनुराग मिश्रा, मूल रूप से उत्तर प्रदेश के कानपुर देहात से ताल्लुक रखते हैं लेकिन उनका बचपन और किशोरावस्था इलाहबाद (अब प्रयागराज) में गुज़री। उन्होंने बायोटेक्नोलॉजी से B. Tech. और फ़ूड टेक्नोलॉजी से M. Tech. की डिग्री इलाहाबाद कृषि विश्वविद्यालय ( AAIDU) से प्राप्त की। पेशे से ये एक फ़ूड सेफ्टी प्रोफेशनल हैं और विगत 10 सालों में अनेक बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम कर चुके हैं। इनके फ़ूड सेफ्टी से सम्बंधित अनेक लेख  और शोध पत्र ,राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में छप चुके हैं। अनुराग को पढ़ाने का बहुत शौक है और इसीलिए ये 4 विश्वविद्यालयों में अथिति शिक्षक के रूप में भी विद्यार्थियों से रूबरू होते रहते हैं।  चूंकि इनके जीवन में कानपुर  और इलाहबाद दोनों का संगम है तो अवधी, इलाहाबादी और ठेठ कानपुर की भाषा में इनकी पकड़ काफी अच्छी है।  लेखन में इनकी प्रेरणा स्त्रोत इनका परिवार है।

संजीव कुमार शर्मा, मूल रूप से बिहार के भागलपुर से ताल्लुक रखते हैं लेकिन उनका बचपन झारखण्ड के दुमका में गुज़रा है। उन्होंने खाद्य विज्ञान में स्नातक की डिग्री (B.Tech.) महाराष्ट्र के परभणी से हासिल की है और स्नातकोत्तर की डिग्री (M.Sc.) कर्णाटक के मैसूरु से। पेशे से ये एक खाद्य वैज्ञानिक हैं और विगत एक दशक से एक बहुराष्ट्रीय चॉकलेट कंपनी में मुंबई शहर में कार्यरत हैं। खाद्य विज्ञान के क्षेत्र में कुछ पुस्तकों के भी लेखक हैं। विज्ञान के साथ-साथ कविताओं और ग़ज़लों में इनकी अभिरूचि हमेशा से रही हैI उन्होंने बचपन से ही काव्य-रचना की शुरुआत कर दी थी और इस कार्य में उन्हें अपने परिवार और मित्रों का बहुत साथ मिला। इन्हें ज़िन्दगी और लोगों के ज़िन्दगी के प्रति विचारों को निरीक्षण करने का भी शौक़ है और इन सारे अनुभवों का अंश इनकी कविताओं और लेखों  में साफ़ झलकता है। 2020 में इन्होने अपनी काव्य संग्रह ‘लफ़्ज़’ को प्रकाशित किया था।


Available in two formats


Hardcopy

₹ 359/- ₹ 299/

.

E book

₹ 199/- ₹ 179 /-


Our commitment

We are committing all the profits from the book sold in 2021 to be given to a wonderful team of people working for the Covid patients in the interior of Maharashtra – Chhatrapati Shivaji Maharaj Covid Centre, at post Pare, Tal. Sangola, Dist. Solapur, Maharashtra.

Anurag-Sanjeev